जागरण / गोरख पाण्डेय

Beautiful sunset

बीतऽता अन्हरिया के जमनवा हो संघतिया
सबके जगा द
गंउवा जगा द आ सहरवा जगा द
छतिया में भरल अंगरवा जगा द
जइसे जरे पाप के खनवा हो संघतिया
सबके जगा द
तनवा जगा द आपन मनवा जगा द
अपने जंगरवा के धनवा जगा द
ठग देखि माँगे जगरनवा हो संघतिया
सबके जगा द
नेहिया के बन्हल परनवा जगा द
अँसुआ में डूबल सपनवा जगा द
मुकुती के मिल बा बयनवा हो संघतिया
सबके जगा द
हथवा जगा द हथियरवा जगा द
करम जगा द आ बिचरवा जगा द
रोसनी से रचऽ नया जहनवा हो संघतिया
सबके जगा द
बीतऽता अन्हरिया के जमनवा हो संघतिया
सबके जगा द

Subhikhya
Not from Bihar, heard a lot about the state. Always interested in exploring the art culture and politics of the state. So here I am, writing and doing PR for AaoBihar.com
Come and Join Us :)

Comments

comments