बिहार की दुल्हनों का संकल्प : दहेज के लालची दूल्हों से नहीं करेंगे शादी

Shaadi Bihar

बिहार की इन लड़कियों  से देश की लड़कियों को कुछ सीखना चाहिए। जिन्होंने दहेज के खिलाफ अपनी आवाज को बुलंद करने का साहस जुटाया है। ये सभी लड़कियां न केवल उन दूल्हों को रिजेक्ट कर रही हैं जो उनके परिवार से दहेज मांग रहे हैं बल्कि उन्हें भी जो उनके लुक्स को लेकर असंवेदनशील टिप्पणी कर रहे हैं।

बिहार के पश्चिम चंपारण के कोठावा गांव की कुसुम कुमारी की शादी यूपी के नौरांगिया गांव के अजय कुमार से रविवार को होने वाली थी। लेकिन ऐसा नहीं हो पाया क्योंकि शादी के दिन अजय के पिता ने कुसुम के पिता बिरन चौधरी से 5,000 रुपए मांगे जो उन्होंने रस्म से पहले देने का वादा किया था। चौधरी पहले ही 20,000 रुपए दहेज के तौर पर दे चुके थे। पैसे न देने पर दूल्हे के पिता ने शादी न करवाने की धमकी दी।

28434873

जब दुल्हन को इस बात का पता चला तो वह मंडप से नीचे उतर आई और अजय के साथ शादी करने से इंकार कर दिया। इससे दूल्हे के परिवार को धक्का लगा और उन्होंने शादी करवाने की इजाजत दे दी। लेकिन उसने कहा कि वह ऐसे शख्स से शादी नहीं करना चाहती जो उसके पिता को 5,000 रुपए के लिए परेशान कर रहा है। उसने कहा कि वह दहेज लेने वाले शख्स से शादी करने के बजाए पूरी जिंदगी अपने माता-पिता की सेवा करेगी।

dowry

दूसरी घटना में बगाहा के मंगलपुर में एक दुल्हन ने खुद के रंग-रूप को लेकर दूल्हे के कमेंट को अपराध मान लिया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार दूल्हे के माता-पिता ने दहेज की मांग यह कहते हुए कि की उसका रंग काफी डार्क है। इसके बाद हड़कंप मच गया। दोनों परिवार आपस में लड़ने लगे। इसके बाद बीच-बचाव के लिए आई पुलिस ने मामला सुलझाया और दोनों परिवार दूसरी तारीख पर शादी करने के लिए तैयार हो गए। लेकिन दुल्हन ने शादी से साफ इंकार कर दिया।

 

इसी तरह की घटना जादोपुर के गांव गोपालगंज जिले में भी घटी। यहां एक दुल्हन शादी के मंडप से भाग गई क्योंकि दूल्हा पक्ष ज्यादा दहेज की मांग कर रहा था। इसके बाद दुल्हन के परिवार ने पुलिस को बुला लिया। जिसके बाद दूल्हा बिना दहेज लिए शादी के लिए तैयार हो गया।

Sanskriti
A girl from the capital of Bihar, trying to understand the past underdevelopment of Bihar and exploring the ways to improve the status of the State

Comments

comments