20 बेहद कमाल की शायरी, होली पर

Portrait Of Young Indian Woman With Colored Face Dancing During Holi

होली का त्यौहार आता है तो फ़िज़ाओं में गुलाल और अबीर के साथ प्रेम का रंग भी घुल जाता है और जहाँ प्रेम की बात हो वहाँ शेर-ओ-शायरी का होनी भी लाजमी है। पढ़ें कुछ ऐसे ही मुहब्बत भरे शेर जो इस त्यौहार के लिए ख़ास कहे गए हैं।

मौसम-ए-होली है दिन आए हैं रंग और राग के
हमसे तुम कुछ मांगने आओ बहाने फाग के
– मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

मुंह पर नकाब-ए-ज़र्द हर इक ज़ुल्फ पर गुलाल
होली की शाम ही तो सहर है बसंत की
– माधव राम जौहर

 Bi0sRtICYAApnsE

मुहय्या सब है अब अस्बाब-ए-होली
उठो यारों भरो रंगों से झोली
– शैख़ हातिम

जब फागुन रंग झमकते हों तब देख बहारें होली की
और दफ़ के शोर खड़कते हों तब देख बहारें होली की
– नज़ीर अकबराबादी

बाज़ार, गली और कूचों में ग़ुल शोर मचाया होली ने
दिल शाद किया और मोह लिया ये जौबन पाया होली ने
– नज़ीर अकबराबादी
फ़स्ल-ए-बहार आई है होली के रूप में
सोलह सिंगार लाई है होली के रूप में
– साग़र निज़ामी

 holi Ranjhana

कहीं पड़े न मोहब्बत की मार होली में
अदा से प्रेम करो दिल से प्यार होली में
– नज़ीर बनारसी

अज़ कबीर-ओ-रंग-ए-केसर और गुलाल
अब्र छाया है सफ़ेद-ओ-ज़र्द-ओ-लाल
– फ़ाएज़ देहलवी

ले के आई है अजब मस्त अदाएँ होली
मुल्क में आज नए रुख़ से दिखाएँ होली
– कँवल डिबाइवी

गले मुझ को लगा लो ऐ मिरे दिलदार होली में
बुझे दिल की लगी भी तो ऐ मेरे यार होली में
– भारतेंदु हरिश्चंद्र

 sonam-kapoor-dhanush-still-from-raanjhnaa_13669515980
हम से नज़र मिलाइए होली का रोज़ है
तीर-ए-नज़र चलाइए होली का रोज़ है
– जूलियस नहीफ़ देहलवी
कहीं अबीर की ख़ुश्बू कहीं गुलाल का रंग
कहीं पे शर्म से सिमटे हुए जमाल का रंग
– अज़हर इक़बाल

चले भी आओ भुला कर सभी गिले-शिकवे
बरसना चाहिए होली के दिन विसाल का
– अज़हर इक़बाल

माथे पे हुस्न-ख़ेज़ है जल्वा गुलाल का
बिंदी से औज पर है सितारा जमाल का
– उफ़ुक़ लखनवी

Navratri-Special-List-of-Best-Bollywood-Songs-for-Garba
अगर आज भी बोली-ठोली न होगी
तो होली ठिकाने की होली न होगी
– नज़ीर बनारसी
बड़ी गालियाँ देगा फागुन का मौसम
अगर आज ठट्ठा ठिठोली न होगी
– नज़ीर बनारसी

है होली का दिन कम से कम दोपहर तक
किसी के ठिकाने की बोली न होगी
– नज़ीर बनारसी
पूरा करेंगे होली में क्या वादा-ए-विसाल
जिन को अभी बसंत की ऐ दिल ख़बर नहीं
– नादिर लखनवी

 cover

बहार आई कि दिन होली के आए
गुलों में रंग खेला जा रहा है
– जलील मानिकपूरी

सजनी की आँखों में छुप कर जब झाँका
बिन होली खेले ही साजन भीग गया
– मुसव्विर सब्ज़वारी

Chirag
Trying to connect you from almost all the hottest news of Bihar and the reason behind this is to ensure the proper awareness of all of the citizen.
So say AaoBihar

Comments

comments