अनंत चतुर्दशी: हरि की पूजा

Anant Charturdarshi

अनंत चतुर्दशी की कथा

यह कथा हिंदू धर्म की पवित्र ग्रंथ महाभारत में दी गई है। इसके अनुसार यह व्रत महाभारत काल में किया गया था। एक बार महाराज युदिष्ठर ने राजसूर्य यज्ञ किया। इस यज्ञ के लिए मंदप को बहुत ही अद्भुत तरीके से सजाया गया। यह इस तरह बनाया गया कि जल की जगह स्थल और स्थल की जगह जल दिख रहा था। दुर्योधन इस मंडप की शोभा निहारते हुए जा रहे थे तभी वह जल को स्थल समझकर कुंड में जा गिरें। जिसे देखकर द्रोपदी नें कहा कि अंधे की संतान भी अंधी होती है। जो बात दुर्योधन को लग गई और उसनें बदला लेने की ठान ली। आगे चलकर योजना के तहत दुर्योधन ने पांडवों के हस्थिनापुर बुलाया और जुए में छल से उन्हें परास्त कर दिया। जिसके कारण पांडवों को अनेक कष्ट सहनें पड़े और 12 साल वनवास की तरह काटना पड़ा। साथ ही पांडवों ने जउए में द्रोपदी को भी लगाया जिसे वह हार गए। जिसके कारण दुर्योधन ने भरी सभा में अपनी बदला लेने के लिए द्रोपदी का चीर हरण करने कि ठान ली, लेकिन द्रोपदी के पुकारनें पर कृष्ण भगवान ने द्रोपदी की लाज बचाई थी।

जब श्री कृष्ण ने धर्मराज युधिष्ठर से इस बारें में पूछा तो उन्होनें सब हाल कह दिया और इससे बचनें का उपाय पूछा। तब श्री कृष्ण ने अनंत चतुर्दशी का व्रत के बारें में बताया और कहा कि इस व्रत के प्रभाव से तुम्हारा खोया हुआ राज वापस मिल जाएगा और सारें कष्ट मिट जाएगें। साथ में यह कथा भी सुनाई।

Lord-Vishnu-810x405
एक बार कौटिल्य श्रृषि ने अपनी पत्नी सुशीला से उनके हाथ में बंधे 14 गांठ के धागे के बारें में पूछा तो सुशीला ने अनंत भगवान की पूजा के बारे सब कुछ बताया। तब श्रृषि ने अप्रसन्न होकर वो धागा तोड़कर आग में डाल दिया। यह अनंत भगवान का अपमान था जिसके कारण कौटिल्य की सुख-शांति नष्ट हो गई। तब पश्चाताप करते हुए कौटिल्य अनंत भगवान की खोज में में वन में चलें गए। एक दिन भटकते-भटकते निराश होकर गिर गए और बेहोश हो गए। तब भगवान अनंत ने दर्शन देकर कहा कि हे कौटिल्य! मेरा अपमान करनें के कारण ही तुम्हारा यह हाल हुआ है, लेकिन अब में प्रसन्न हूं और तुम आश्रम जाकर 14 साल तक अनंत भगवान का विधि विधान से व्रत करो जब जाकर तुम्हारें कष्टों का निवारण होगा। तब कौटिल्य ने ऐसा ही किया और 14 साल बाद उसके  सभी कष्ट दूर हो गए।
भगवान श्री कृष्ण की यह बात सुनकर युधिष्ठर नें भी 14 साल तक इस व्रत को रखा। यानि की 12 साल के वनवास, एक साल का अज्ञात वास और युद्ध में रहे। जिसके कारण उन्हें 14 साल बाद अपना खोया हुआ राज्य वापस मिल गया। जब से यह व्रत शुरु हुआ।

Source: IndiaTv

Subhikhya
Not from Bihar, heard a lot about the state. Always interested in exploring the art culture and politics of the state. So here I am, writing and doing PR for AaoBihar.com
Come and Join Us :)

Comments

comments