Best of the Best read to Salute Shaheed Bhagat Singh

Bhagat-Singh-Quotes-Images

Shaheedon ki mazar par har baras lagenge mele,
Watan par mar mitne walon ka bhi baki nishaan hoga

TH05-BHAGAT_SINGH_1877012f

“राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है मैं एक ऐसा पागल हूँ जो जेल में भी आज़ाद है.”

“Zindgi to apne damm par hi jiyi jati hey..dusro k kandhe par tohh shirf janaje uthaye jate hey.”
― Bhagat Singh

The more on the legend

any_man_who_stands_for-565-185

 

Revolution did not necessarily involve sanguinary strife. It was not a cult of bomb and pistol.

ज़रूरी नहीं था की क्रांति में अभिशप्त संघर्ष शामिल हो। यह बम और पिस्तौल का पंथ नहीं था.

bhagat_singh_quotes_for_facebook_cover

Non-violence is backed by the theory of soul-force in which suffering is courted in the hope of ultimately winning over the opponent. But what happens when such an attempt fail to achieve the object? It is here that soul-force has to be combined with physical force so as not to remain at the mercy of tyrannical and ruthless enemy.

In Hindi: अहिंसा को आत्म-बल के सिद्धांत का समर्थन प्राप्त है जिसमे अंतत: प्रतिद्वंदी पर जीत की आशा में कष्ट सहा जाता है . लेकिन तब क्या हो जब ये प्रयास अपना लक्ष्य प्राप्त करने में असफल हो जाएं ? तभी हमें आत्म -बल को शारीरिक बल से जोड़ने की ज़रुरत पड़ती है ताकि हम अत्याचारी और क्रूर दुश्मन के रहमोकरम पर ना निर्भर करें .

man_acts_only_when_he-564-185

 

Man acts only when he is sure of the justness of his action, as we threw the bomb in the Legislative Assembly.

In Hindi: इंसान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर सुनिश्चित होता है , जैसाकि हम विधान सभा में बम फेंकने को लेकर थे.

the_sanctity_of_law_can-563-185

…by crushing individuals, they cannot kill ideas.

In Hindi: …व्यक्तियो को कुचल कर , वे विचारों को नहीं मार सकते।

Life is lived on its own…other’s shoulders are used only at the time of funeral.

In Hindi: ज़िन्दगी तो अपने दम पर ही जी जाती हे … दूसरो के कन्धों पर तो सिर्फ जनाजे उठाये जाते हैं .”

 

The day when newspaper declared the death

bhagat_singh_executed

 

I emphasize that I am full of ambition and hope and of full charm of life. But I can renounce all at the time of need, and that is the real sacrifice.

In Hindi: मैं इस बात पर जोर देता हूँ कि मैं महत्त्वाकांक्षा , आशा और जीवन के प्रति आकर्षण से भरा हुआ हूँ. पर मैं ज़रुरत पड़ने पर ये सब त्याग सकता हूँ, और वही सच्चा बलिदान है.

Ritesh Singh
बिहार में जन्म हुआ और फिर भगवान ने बिहारी बनाया। तब से आज तक कुछ कुछ प्रयत्न कर रहे है कामयाब होने की।
गलती से IIT से B.Tech पास करने के बाद, AaoBihar पर लेख लिखना और पढ़ना शौक बन गया है।

Comments

comments