Poem: बदलाव

Poem: बदलाव

जो दिखता है वो सच है या समय की मांग (demand) मानो जाड़े के आने से एक धुंध सी लगी हो जिसने सबकुछ ढंक रखा […]

दुःख बिहारी औरत का: “रैलियां बैरन पिया को लिए जाये रे”

दुःख बिहारी औरत का: “रैलियां बैरन पिया को लिए जाये रे”

कहानी बिहार की बहुत पुरानी है, पहले अँगरेज़ बिहार से मजदूरो को बंगाल भेजते थे, फिर वहाँ के बाद सिलसिला पंजाब का सुरु हुआ, फिर […]