५ लाइन्स सलमान खान के मासूमियत पर

12346310_10153798002765798_2287044012206186115_n

कितने मासूम है न सलमान खान, जिंदगी और मौत से परे ये तो बीइंग ह्यूमन के सस्थापक है जहा अनगिनत लोगो की भलाई करते है। तो क्या हुआ अगर इनकी गाड़ी से ५-६ लोग कुचल गए तो या मर गए तो और इसके ऊपर क्या हुआ अगर इस मौत पर कोई दोषी निकल कर नहीं आया तो। जान का क्या कीमत होता है इन गरीबो का, फूटपाथ पे सोते है, अस्तित्व कुछ होता नहीं है जानने वाले कहा ही होते है इनको।

ओहोहो गलती हो गयी, भले ही आप नहीं जानते हो मगर अपने परिवार के ये सलमान खान है और मरने वाले वो सलमान खान थे जो आप फिल्मो में देखते है, वो नहीं जो दारू पि के लोगो को रोंदता है या जंगल में गोलिया दागता चलता है।

तो प्रस्तुत है ५ लाइन्स जो सलाम की मसूयमत बयां करती है

१. ” दामन पे कोई छींट न खंजर पे कोई दाग ,
तुम क़त्ल करो हो कि करामात करो हो..!”
२.

Baatmaan

 

३. शराब कार ने पि हुई थी, भाई  बीइंग ह्यूमन है

alman-Khan-Troll
४.

Screen-Shot-2015-12-10-at-6.15.16-pm

५. “नई हवाओ की शोहबत बिगाड़ देती है,
कबूतरों को खुली छत बिगाड़ देती है,
जो जुर्म करते हैं इतने बुरे नहीं होते,
सजा न देके अदालत बिगाड़ देती है…!”
— राहत इंदौरी

दो मिनट का मौन भारतमाता के उन अभागे बेटों के लिए जो वतन छोड़कर मुम्बई में जीने की जद्दोजहद के दौरान फुटपाथ की नींद में पैसे-प्रसिद्धी-रसूख़ और शक्ति के नीचे 13 साल पहले कुचलकर मार दिए गए ! आज देश को बताया गया कि उन्हें किसी ने नहीं मारा ,वो बस मर गए !

Sanskriti
A girl from the capital of Bihar, trying to understand the past underdevelopment of Bihar and exploring the ways to improve the status of the State

Comments

comments