नवरात्रि 1 दिन: मां शैलपुत्री की आराधना

Maa-Shailputri.png

वन्दे वांछितलाभाय चंद्राद्र्धकृतशेखराम।    वृषारूढ़ा शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम।।

नवरात्र के पहले दिन भक्तों ने मां शैलपुत्री की आराधना की। बाएं हाथ में कमल लिए मां की मूर्ति के निकट आराधना करते हुए भक्तों ने उनका आर्शीवाद प्राप्त किया।

shailputri

कहा जाता है कि नवरात्र के पहले दिन पर्वतराज हिमालय की पुत्री शैलपुत्री की आराधना की जाती है। यह मां दुर्गा का प्रथम रूप है। नवरात्र के पहले ही दिन भक्त घरों में कलश की स्थापना करते हैं जिसकी अगले आठ दिनों तक पूजा की जाती है। मां का यह अद्भुत रूप है। दाहिने हाथ में त्रिशूल व बांए हाथ में कमल का फूल लिए मां अपने पुत्रों को आर्शीवाद देने आती है। पूर्वतराज हिमालय की पुत्र के रूप में उत्पन्न होने के कारण इनको शैलपुत्री के रूप में जाना जाता है। श्वेत व दिव्य रूप में मां वृषभ पर बैठी है। पैराणिक कथाओं के अनुसार मां शैलपुत्री पूर्वजन्म में दक्षप्रजापति की पुत्री थीं इनका नाम सती था। सती का विवाह भगवान शिव से हुआ था।

एक यज्ञ में दक्षप्रजापति सभी देवताओं को बुलाते हैं लेकिन शिव को आमंत्रित नहीं करते। अपने पति का यह अपमान उन्हें बर्दाश्त नहीं होता जिसके चलते वह योगाग्नि में जलकर भस्म हो जाती है। जब इसकी जानकारी भगवान शिव को होती है तो दक्षप्रजापति के घरजाकर तांडव मचा देते हैं तथा अपनी पत्नी के शव को उठाकर प्रथ्वी के चक्कर लगाने लगते हैं। इसी दौरान सती के शरीर के अंग धरती पर अलग-अलग स्थानों पर गिरते हैं। यह अंग जिन 51 स्थानों पर गिरते हैं वहां शक्तिपीठ की स्थापित हो जाते हैं।

ध्यान मंत्र मां शैलपुत्री की आराधना के लिए भक्तों को विशेष मंत्र का जाप करना चाहिए ताकि वह मां का आर्शीवाद प्राप्त कर सकें।

Sanskriti
A girl from the capital of Bihar, trying to understand the past underdevelopment of Bihar and exploring the ways to improve the status of the State

Comments

comments