नोटबंदी की कहानी बिहार के खगड़िया से: बैंक की महिला कर्मी कंचन प्रभा की भी है, जो अपनी ड्यूटी निभाती हैं, अकेले नहीं, अपनी 7 महीने की बच्ची के साथ

bank-staff-bihar-kids

प्रधानमंत्री मोदी द्वारा नोटबंदी के फैसले के बाद से देशभर के सभी बैंक कर्मियों पर काम का दुगना दबाव पड़ गया है, बैंकों में लंबी-लंबी लाइन है और जनसमूह इतना कि आम लोगों के साथ-साथ स्वयं कर्मचारी भी परेशान हैं। इन परिस्थितियों में कर्मचारियों पर आए दिन आम जनता का गुस्सा फूट रहा है पर हमें उन सभी कर्मचारियों की सराहना करनी होगी जो इस अफ़रा-तफ़री के माहौल में भी लोगों की सेवा में लगे हैं। सेवा की ऐसी ही एक कहानी बिहार के खगड़िया, इलाहाबाद बैंक की महिला कर्मी कंचन प्रभा की भी है, जो अपनी ड्यूटी निभाती हैं, अकेले नहीं, अपनी 7 महीने की बच्ची के साथ।

notebandi-bihar-modi
कंचन रोज़ सुबह अपनी सात माह की प्यारी बेटी पंखुड़ी को लेकर बैंक आती हैं और नोट बदलने के साथ ही बैंक के अन्य कामों को भी करती हैं। कंचन एक बैंक कर्मचारी के साथ-साथ माँ होने का फ़र्ज़ भी बखूबी निभाती हैं, वो पंखुड़ी के लिए दूध और अन्य सारी सामग्रियां अपने साथ लाती हैं ताकि उनकी बच्ची को कोई तकलीफ़ ना हो। ब्रेक के समय वो अपनी लाडली बिटिया को दुलार और प्यार भी कर लेती हैं। कंचन कहती हैं कि वो सबुह 8 बजे से ही बैंक आने की तैयारी में लग जाती हैं और बैंक आकर अपने दायित्व को निभाती हैं।

कंचन के पति प्रभात कुमार, मुंगेर में रहते हैं, वो व्यवहार न्यायालय में एपीओ हैं। पत्नी के हौसले और जज़्बे पर उन्हें भी गर्व है। कंचन के सारे सहकर्मी उनको इज़्ज़त की नज़र से देखते हैं और उनपर गर्व करते हैं, बैंक के शाखा प्रबंधक सुमन कुमार सिन्हा ने कहा कि कंचन जैसी कर्मचारी पर उन्हें फख्र है। वो कहते हैं कि यह समय चुनौतियों भरा है, हर कर्मचारी पूरी लगन से आम लोगों की मदद में लगा है, ऐसे में कंचन की कहानी हर बैंकर के लिए प्रेरणास्रोत है।

Chirag
Trying to connect you from almost all the hottest news of Bihar and the reason behind this is to ensure the proper awareness of all of the citizen.
So say AaoBihar

Comments

comments