Poem: बदलाव

Poem: बदलाव

जो दिखता है वो सच है या समय की मांग (demand) मानो जाड़े के आने से एक धुंध सी लगी हो जिसने सबकुछ ढंक रखा […]

बिहार बा

बिहार बा

बिहार  बा  बिहार  बा  बिहार  बा हमरा  देसवा  के  सान  ई  बिहार  बा गौतम -महावीर  ईहे  माटी  पे  जनमले बाबू  कुंवर  सिंह जौहर  दिखैले माती  […]